बच्चों से है प्यार, तो उनके लिए रखें फाइनेंशियल प्लान तैयार

दुनिया में शायद ही कोई माता-पिता होगा, जो कि अपने बच्चों से प्यार नहीं करता होगा। लेकिन, जब उनसे ये पूछा जाए कि, क्या आपने अपने बच्चों के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग की, तो शायद ज्यादातर माता-पिता का जवाब ना में होगा।

अगर आप भी ना कहने वालों में से हैं तो अपने बच्चों के लिए फाइनेंशियल प्लानिंग करना अभी से ही शुरू कर दीजिए। आप म्युचुअल फंड के जरिए भी अपने बच्चों का सपना साकार कर सकते हैं।

क्यों हो बच्चे के लिए फाइनेंशियल:  
-बच्चों के बेसिक से लेकर उच्चतर और प्रफेशनल एजुकेशन के लिए:
आज कल प्री-नर्सरी से लेकर प्रफेशनल पढ़ाई तक काफी महंगी हो गई है।
हर साल सामान्य महंगाई दर जहां 7-8% की दर से बढ़ रही है, वहीं
एजुकेशन महंगाई दर 12-15% सालाना बढ़ रही है। ऐसे में बेहतर
फाइनेंशियल प्लानिंग के जरिए आप अपने बच्चे को बिना किसी कठिनाई के
स्वतंत्र होकर अच्छी शिक्षा देने में कामयाब हो सकते हैं।

-बच्चों की शादी:शादी भी काफी महंगी हो गई है। शादी के लिए मैरिज हॉल
लेना,  सजावट, गाड़ी, खाने-पीने का इंतजाम सबकुछ काफी महंगा हो
गया। आजकल शादियों में जितना खर्च हो रहा है, अचानक एक बार में
उतना पैसा इंजताम करना हर किसी के लिए संभव नहीं है। कुछ
अनुमान के मुताबिक, शादियों की महंगाई दर हर साल 20% की दर से
बढ़ रही है।

क्या करें माता-पिता:
-अगले 15-20 साल में अगर आप बच्चों की पढ़ाई -लिखाई और उसकी
शादी के लिए ऐसे साधन में पैसा लगा रहे हैं जो कि सालाना 7-8%
रिटर्न देता हो, तो उतना फंड काफी नहीं होगा।

-आपको ऐसी जगह पैसा लगाना होगा, जो कि 15-20 साल में कम से कम
15% तक रिटर्न दे, उसमें भी कोई टैक्स बगैरह नहीं कटे तो ज्यादा बेहतर है।

-ऐतिहासिक आंकड़ों की बात करें तो शेयर बाजार लंबी अवधि में बैंक
एफडी या आरडी ज्यादा रिटर्न देने में सक्षम रहा है। अगर आप अच्छे
 इक्विटी फंड में अनुशासित होकर नियमित पैसे लगाते हैं तो बैंक एफड
या आरडी से आपको महज 8% तक का ही रिटर्न मिलेगा, उसमें भी हर साल
10 हजार रुपए से ज्यादा ब्याज पर टैक्स कट जाएगा।

-अगर आप हर महीने बैंक एफडी या आरडी में 10 हजार रुपए निवेश
करते हैं तो 20 साल में आप अपने बच्चे के लिए 59 लाख रुपए का ही
जुगाड़ कर पाएंगे। वहीं अगर हर महीने इतने ही पैसों की आप एसआईपी
(सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) करें और उस पर सालाना 15% रिटर्न मिले
तो आप बैंक एफडी या आरडी के मुकाबले ढ़ाई गुना ज्यादा पैसा जुटा
सकते हैं।

-अच्छे म्युचुअल फंड में नियमित पैसा लगाना शुरू कर दें

-जितनी जल्दी शुरुआत करेंगे, उतना बेहतर होगा
-इसके अलावा, बच्चों के जन्मदिन, या किसी त्योहार पर उनको
मिलने वाले पैसे या उनको मिलने वाली गिफ्ट को भी उनके
भविष्य की जरूरत पूरी करने के लिए निवेश कर दें

-बच्चों को ध्यान में रखकर बैंक अब अकाउंट खोल रहे हैं। आप अपने
बच्चे के नाम पर अकाउंट खोल सकते हैं।

-बाजार में बच्चों के लिए कई म्यचुअल फंड स्कीम हैं। लेकिन ऐसी स्कीम
में पैसे लगाने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी जरूर ले लें।

-इसके अलावा कई इंश्योरेंस कंपनियां भी बच्चों पर आधारित पॉलिसी
बेच रहीं है। आप वैसे इंश्योरेंस पॉलिसी खरीद सकते हैं  जो आपके
बच्चे के सपने पूरे करे।

-कुछ जानकार गोल्ड ईटीएफ में भी पैसे लगाने की सलाह देते हैं। इसमें
आप अपनी जरूरत के हिसाब से निवेश करें। इसमें आपको स्टोरेज
करने या चोरी होने की चिंता नहीं रहती है, क्योंकि ये इलेक्ट्रॉनिक
रूप में रहता है। इसमें एक और सुविधा है आसान लिक्विडिटी। गोल्ड
ईटीएफ में सिर्फ एक ही चार्ज आपको देना पड़ता है फंड मैनेजमेंट चार्ज,
लेकिन अगर आप दूसरे रूप मे मसलन, जूलरी, क्वाइन बगैरह के रूप में
सोना बेचते हैं तो जूलरी या गोल्ड कंपनियां वेस्टेज चार्ज काटकर सोने
का मूल्य देते हैं।

लेकिन, ध्यान रहे ये सब अपनी मौजूदा जरूरत को पूरी करते हुए करे। अपनी बचत से ही अपने बच्चों का भविष्य सुरक्षित करने के लिए  मजबूत बुनियाद का निर्माण करें।

'Money मित्र' बनकर दें बच्चों को लाड़-प्यार   
http://beyourmoneymanager.blogspot.in/2015/08/money.html


No comments