क्रेडिट हेल्थ ठीक है,तो बेहतर है…

मुंबई के अनिल पवार की अच्छी-खासी सैलरी है। चार-पांच साल नौकरी करने के बाद अनिल ने खुद का घर लेने की योजना बनाई। घर खरीदने के लिए उनके पास पर्याप्त पैसे नहीं थे। इसलिए होम लोन उनकी मजबूरी थी। अनिल ने अपने बजट में एक फ्लैट देखा और होम लोन के लिए एक निजी बैंक में आवेदन किया। बैंक ने अनिल का होम लोन आवेदन रिजेक्ट कर दिया। बैंक के इस कदम से अनिल के तो होश उड़ गए। उन्हें कुछ समझ में नहीं आया कि उनसे कम सैलरी और अधिक महंगे घर खरीदने वालों का तो लोन एप्लीकेशन बैंक ने स्वीकार कर लिया लेकिन मेरा क्यों नहीं।
अनिल ने बैंक से लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट के कारणों के बारे में पूछा। बैंक अधिकारी ने बताया कि आपका क्रेडिट प्रोफाइल ठीक नहीं है। अनिल ने अपने एक जानकार दोस्त से इसका जिक्र किया और क्रेडिट प्रोफाइल के बारे में जानकारी मांगी। अनिल का दोस्त ने कहा कि ऑटो लोन, क्रेडिट कार्ड पेमेंट में डिफॉल्ट करने पर किसी भी शख्स का क्रेडिट प्रोफाइल गड़बड़ हो जाता है। तब अनिल को याद आया कि उसने एक बार ऑटो लोन और क्रेडिट कार्ड के पेमेंट में डिफॉल्ट किया था।
अब तो आप समझ गए होंगे कि लोन लेने के लिए आपका क्रेडिट प्रोफाइल अच्छा रहना कितना जरूरी है। क्रेडिट प्रोफाइल से ही आपकी क्रेडिट हेल्थ और क्रेडिट रिपोर्ट या फिर क्रेडिट एजिलिबिटी का पता चलता है। कोई भी बैंक या वित्तीय संस्थान लोन या क्रेडिट कार्ड जारी करने में इस रिपोर्ट को खासा तरजीह देते हैं। हालांकि इधर कुछ दिनों से टेलिकॉम ऑपरेटर भी पोस्ट पेड कनेक्शन देने के लिए इस  रिपोर्ट पर ध्यान दे रहे हैं।
क्रेडिट हेल्थ रिपोर्ट तैयार करने में में  CIBIL (सिबिल) यानी Credit Information Bureau India Limited की अहम भूमिका  होती है। बैंक और वित्तीय संस्थानों से मिली रिपोर्ट के आधार पर सिबिल ग्राहकों का CIBIL TransUnion score और Credit Information Report (CIR) तैयार करती है। बैंक और वित्तीय संस्थान लोन की मंजूरी देने के दौरान ग्राहक की लोन भुगतान करने की मौजूदा क्षमता के साथ सिबिल स्कोर और रिपोर्ट को भी देखते हैं। इसलिए जब भी आप लोन के लिए आवेदन दें, उससे पहले अपना सिबिल स्कोर और रिपोर्ट देखना मत भूलें। हां, अगर आपने पहले कोई लोन नहीं लिया है और न ही क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल किया है, तो आपके लिए क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट रिपोर्ट लेने की  जरूरत नहीं है। 

No comments