बड़े काम का फेसबुक, ट्विटर, शिकायतों से भी निजात दिलाए

अगर आप अपने बैंक, मोबाइल कंपनी या फिर इंश्योरेंस कंपनी की खराब सेवा से परेशान होते हैं तो क्या करते हैं। या तो आप अपने दोस्तों, परिचितों से इस पर चर्चा करते हैं या फिर सेवा देने वाली कंपनी के कस्टमर केयर से इसकी शिकायत करते हैं। लेकिन, अगल बार जब भी आपको कोई शिकायत हो, तो संबंधित कंपनी या बैंक के सोशल मीडिया अकाउंट यानी उसके फेसबुक, ट्विटर या लिंक्डइन अकाउंट पर संपर्क करें, तो हो सकता है, आपकी समस्या का समाधान जल्द हो जाए।
आज सोशल मीडिया काफी ताकतवर हो गया है। फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन ये कुछ सोशल मीडिया के ऐसे नाम हैं जो अपनी पहचान के मोहताज नहीं है। अगर अब तक आप इसका इस्तेमाल महज फोटो शेयर करने या फिर मेसेज के आदान-प्रदान के लिए ही कर रहे हैं तो समझिए आप इसकी पूरी क्षमता का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। आप इसका उपयोग बैंक, इंश्योरेंस, मोबाइल सेवा संबंधी शिकायतों के निपटारे के लिए भी कर सकते हैं।

मसलन, मुंबई के एक निजी कंपनी में करने वाले कीर्ति जब अपने इंश्योरर से मेल और टेलीफोन के जरिए अपनी शिकायतों का निपटारा करने में नाकाम रहे तो उन्होंने सोशल मीडिया का सहारा लिया। अपने इंश्योरर का ट्विटर अकाउंट ढूंढा, उस पर अपनी समस्या लिख डाली। साथ ही उसकी लापरवाही की गाथा भी उसके अकाउंट में डाल दिया। ट्विटर अकाउंट पर कीर्ति की समस्या मिलने पर कंपनी तुरंत हरकत में आया। क्योंकि उसकी लापरवाही की गाथा उसके सारे फॉलोअर्स तक पहुंच गई थी, इसलिए कीर्ति की शिकायत का तो निपटारा होना ही था, वरना ज्यादा देर करना उस कंपनी के लिए ही नुकसानदेह साबित होता।

इस तरह से सोशल मीडिया के जरिया अपनी समस्या का निपटारा करवाने वाले कीर्ति अकेले नहीं हैं। कई लोग इसका फायदा उठा रहे हैं। आज शायद ही  बैंक, मोबाइल और इंश्योरेंस कंपनियों का ऑफिसियल अकाउंट या प्रोफाइल ट्विटर और फेसबुक पर ना हो। आप भी  अगर किसी समस्या से जुझे रहे हैं तो सोशल मीडिया का बखबूी इस्तेमाल आप अपनी समस्या का समाधान के लिए कर सकते हैं।

कंपनी के अकाउंट और प्रोफाइल पर जाएं और उसकी लापरवाही के लिए शर्मिंदा करें। सोशल मीडिया पर अपनी निगेटिव छवि से बचने के लिए कंपनियां शिकायतों का निपटारा करने में भी काफी सावधान हो गई है। सोशल मीडिया के जरिए अपनी शिकायतों को निपटाने में 25-35 साल के युवा काफी कामयाब हो रहे हैं।

सोशल मीडिया के लिए कंपनियों की रणनीति: 
सोशल मीडिया के जरिये मिलने वाली शिकायतों को लेकर कंपनियां तुरंत सक्रिय हो जाती है। कंपनियों का मालूम है कि सोशल मीडिया पर उसके बारे में मिलने वाली शिकायतों का मतलब है पूरी दुनिया में उसकी छवि का निगेटिव होना। कुछ कंपनियां तो वकायदा सोशल मीडिया पर मिलने वाली शिकायतों के तुरंत निपटारे के लिए प्रोफेशनल्स रखे हुए है।

इसका दूसरा फायदा ये है कि आप के लिए सोशल मीडिया पर शिकायतों के बारे में अपडेट लेना काफी आसान है। आप ट्विटर या फिर फेसबुक पर फोटो शेयर करते हुए और मेसेज का आदान प्रदान करते हुए भी अपनी शिकायत की कार्रवाई पर नियमित अपडेट ले सकते हैं। ना तो आपको अलग से फोन करने की जरूरत है और ना ही बार-बार मेल चेक करने की।

आपको बता दें कि सोशल मीडिया पर की गई शिकायत को आधिकारिक माना जाता है और प्रॉपर चैनल के जरिये इस पर कार्रवाई की जाती है।

सोशल मीडिया पर शिकायत करने में सावधानी:
हालांकि फेसबुक और ट्विटर दोनों के जरिए की जाने वाली शिकायत की सुनवाई तेजी के साथ होती है। लेकिन दोनों में अंतर ये है कि ट्विटर के जरिए शिकायत दर्ज कराना ज्यादा आसान होता है। किसी कंपनी के खिलाफ फेसबुक पर शिकायत दर्ज कराने के लिए जहां उसके ऑफिशियल पेज पर जाना पड़ता है वहीं ट्विटर पर केवल कंपनी का जिक्र कर देने भर से उस कंपनी की नजर में आप आ जाएंगे।

आप क्या ना करें: 
हालांकि सोशल मीडिया के जरिये शिकायत दर्ज कराने के कई फायदे हैं लेकिन इस दौरान आपको कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए। मसलन, शिकायत लिखते समय निजी जानकारी देने से बचना चाहिए। उसी तरह बैंक अकाउंट नंबर, इंश्योरेंस कवर डिटेल्स, पिन नंबर, अपना पूरा एड्रेस, क्रेडिट कार्ड नंबर, इंश्योरेंस पॉलिसी नंबर देने से बचें। क्योंकि आपकी निजी जानकारी पर कई लोगों की नजर है जो आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं।

याद रखें कि बैंक कभी भी आपसे User iD,पासवर्ड, PIN या क्रेडिट कार्ड CVV नंबर की मांग नहीं करते। अगर कोई आपसे इसकी मांग करें तो आप तुरंत सतर्क हो जाएं, क्योंकि हो सकता है किसी फर्जी बैंक या इंश्योरर के पास आपकी शिकायत पहुंच गई हो।

सोशल मीडिया पर शिकायत लिखते समय ध्यान रखें कि आप अपना सवाल लिखें, क्या शिकायत है वो लिखें और शहर का नाम लिखें। साथ ही कंपनी के अकाउंट या प्रोफाइल में सीधे मेसेज करें। आपको शिकायत पोस्ट करते समय ध्यान रखना चाहिए कि आप ऑफिसियल पेज पर ही जाएं और कंपनी का वेरिफाइड साइन जरूर देख लें।

No comments