जोखिम (रिस्क) क्या है? रिटर्न क्या है?

कोई भी शख्स बेहतर रिटर्न या फायदे के लिए अपने पैसों का किसी भी निवेश साधन में निवेश करता है लेकिन, निवेश के साथ एक दिक्कत ये भी है कि इसके साथ जोखिम या रिस्क भी जुड़ा रहता है। किसी निवेश साधन में अधिक मुनाफे या रिटर्न की अगर गुंजाइश है तो वहां अधिक नुकसान की भी आशंका प्रबल बनी रहती है। मसलन,शेयर बाजार, म्युचुअल फंड

वहीं अगर आपके निवेश की सुरक्षा और निश्चित रिटर्न की अगर गारंटी हो, तो उससे बढ़ती महंगाई के असर को कम करना मुश्किल होता है। क्योंकि निवेश का एक फंडा ये भी है कि आप जहां भी पैसे लगाएं हों,उससे मिलने वाला रिटर्न महंगाई दर के मुकाबले ज्यादा हो। वरना आपके पैसे की वैल्यू तो बढ़ेगी ही नहीं, यानी आपके निवेश का कोई फायदा नहीं नहीं होगा। बैंक एफडी, आरडी, बैंक बचत खाता बगैरह निवेश के सुरक्षित साधन तो हैं लेकिन इससे रिटर्न भी काफी कम मिलता है।

तो, आइए जानते हैं जब आप कहीं पैसे लगाते हैं तो उस दौरान रिटर्न और रिस्क के क्या मायने होते हैं ....

> रिटर्न (Return) :
-आपके निवेश पर एक निश्चित अवधि के दौरान मिलने वाला फायदा रिटर्न,
मुनाफा या ब्याज कहलाता है।
-बैंक में निवेश पर वाला रिटर्न आमतौर पर ब्याज के नाम से जाना जाता है।
-आमतौर पर सुरक्षित निवेश कम रिटर्न देता है, लेकिन असुरक्षित निवेश
ज्यादा रिटर्न देता है। साथ ही कभी-कभी सारा निवेश डूब भी जाता है।
-निवेश के बहुत सारे कम अवधि के, मध्यम अवधि के और दीर्घ अवधि के
निवेश विकल्प मौजूद हैं।


> जोखिम (रिस्क-Risk) जोखिम क्या है
-एक खास अवधि के दौरान आपके निवेश पर नुकसान होने की आशंका
जोखिम कहलाता है।
-जोखिम को इस तरह से परिभाषित किया जा सकता है कि कोई व्यक्ति अपना
पूरा पैसा या उसका हिस्सा निवेश में गंवाने को तैयार है
-आमतौर पर जोखिम भरा निवेश अधिक रिटर्न का रिवार्ड भी देता है
-जानकारों के मुताबिक, रिटर्न की संभावना के साथ जोखिम भी बढ़ता है यानी
अधिक रिस्क तो रिटर्न मिलने की संभावना भी उतनी अधिक।
-शेयर बाजार और म्युचुअल फंड में अनिश्चित रिटर्न, असुरक्षा जोखिम है तो
सरकारी बॉन्ड और बचत खाता में मुद्रास्फीति दर के मुकाबले कम रिटर्न का
जोखिम है।
-अगर मुद्रास्फीति दर के मुकाबले रिटर्न कम है तो निवेश वास्तव में निरर्थक
हो गया।
-आप निवेश में बने रहें, इसलिए ये जरूरी है कि आप अपने जोखिम का प्रबंधन
करने के लिए आवश्यक उपाय करें।

> कैसे करें जोखिम का प्रबंधन (How to manage your Risk):
-एक बार जब आप किसी खास संपत्ति में निवेश करते हैं तो अपने
निवेश पर नजर रखें
-निवेश में किसी संभावित नुकसान से बचने के लिए बाजार में घट
रही विभिन्न घटनाओं के बारे में दुरुस्त जानकारी रखें
-जब असमान्य रिटर्न की पेशकश की जा रही हो तो ऐसे निवेश में निहित
संभावित जोखिम का पता लगाएं

((क्या है निवेश का '100-उम्र' फॉर्मूला? 
((शेयर बाजार और डेट (FD, बॉण्ड) में कितना-कितना पैसा लगाएं
((What Is EPF&PPF
आमदनी (इनकम), खर्च, बचत और निवेश क्या हैं 
((What Is Financial Planning & Why is it important? 
फाइनेंशियल प्लानिंग (वित्तीय योजना) क्या है और क्यों जरूरी है?
((What Is NPS, एनपीएस क्या है
((What Is FMPs (Fixed Maturity Plans)
एफएमपी (फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान्स) क्या है
((What Is Masala Bond,मसाला बॉन्ड क्या है
((क्यों और कैसे बनें beyourmoneymanager? 
((सिर्फ तीन कदमों में कैसे पूरी करें फाइनेंशियल प्लानिंग की दुनिया
(('आर्थिक स्वतंत्रता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है'
((अपने पसंदीदा सितारों से सीखें बचत, निवेश और वेल्थ मैनेजमेंट के गुर
((महिलाओं को क्यों सीखना चाहिए निवेश और फाइनेंस की बेसिक्स 
((फाइनेंशियल सफर को सुहाना बनाता है 'मनी मित्र', कैसे जानने के 
((म्युचुअल फंड के जरिए फाइनेंशियल प्लानिंग पूरी करें
((म्युचुअल फंड: क्यों है निवेश का सबसे बेहतर जरिया: भाग-1
((म्युचुअल फंड: क्यों है निवेश का सबसे बेहतर जरिया: भाग-2
((म्युचुअल फंड कंपनियों की सूची
((टीचर हैं तो क्या हुआ, फाइनेंशियल प्लानिंग करना तो, बनता है बॉस
((डॉक्टर कैसे ठीक रखें फाइनेंशियल सेहत 
((शादी की खुशी में फाइनेंशियल प्लानिंग करना कहीं भूल तो नहीं गए
((ट्रेजरी बिल्स (टी-बिल्स) क्या है
((NPS और PF में से बेहतर कौन ?
((फाइनेंस का फंडा: भाग-14, PFRDA का क्या काम है 
((सुरक्षित रिटायरमेंट: आज की तैयारी, कल की बेफिक्र जिंदगी
((60 साल की उम्र में करोड़पति बनने के लिए क्या करें
(ब्लॉग एक, फायदे अनेक

Plz Follow Me on: 

No comments