RBI ने 'खुदरा प्रतिभागियों के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार मंच ‘ पर चर्चा पत्र जारी किया, 1 जनवरी तक दें टिप्पणी

आरबीआई ने खुदरा प्रतिभागियों के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार मंच पर चर्चा पत्र जारी किया

आरबीआई ने 'खुदरा प्रतिभागियों के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार मंच ‘ पर चर्चा पत्र जारी किया
भारतीय रिजर्व बैंक ने आज अपनी वेबसाइट पर ‘खुदरा प्रतिभागियों के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार मंच’ पर एक चर्चा पत्र जारी किया। चर्चा पत्र में क्लियरिंग कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (सीसीआईएल) के एफएक्स-क्लियर प्लेटफॉर्म की तर्ज पर खुदरा प्रतिभागियों के लिए विदेशी मुद्रा मंच विकसित करके खुदरा विदेशी मुद्रा बाजार में पारदर्शी और निष्पक्ष मूल्य को प्रोत्साहित करने के लिए एक योजना का प्रस्ताव है।
जैसा कि चर्चा पत्र में परिकल्पित है, खुदरा ग्राहकों को एक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (इंटरनेट आधारित एप्लिकेशन के जरिए) उपलब्ध कराया जाएगा, जहां ग्राहक / एडी बैंकों से प्राप्त बोली / ऑफर का गुमनाम रूप और स्वचालित रूप से मिलान कर सकते हैं। आर्डर आकार के आधार पर उनमें फर्क किए बिना, ऐसी व्यवस्था पारदर्शिता प्रदान करेगी जबकि प्रतिस्पर्धा में बढ़ोतरी और ग्राहकों के लिए बेहतर मूल्य निर्धारण बढ़ेगा। ग्राहक द्वारा प्रत्यक्ष निष्पादन से लेनदेन की लागत के कम होने की संभावना है, सीसीआईएल निपटान प्रणाली के माध्यम से अंतर बैंक व्यापार के निपटान के अलावा ग्राहक के बैंक को बाजार जोखिम नहीं है। बैंक अपने ग्राहकों को प्रशासनिक खर्चों के लिए शुल्क लगा सकते हैं। बैंकों को इसे सार्वजनिक रूप से घोषित करने की आवश्यकता होगी।
चर्चा पत्र पर टिप्पणियों को निम्नलिखित को प्रेषित किया जा सकता है:
मुख्य महाप्रबंधक, भारतीय रिजर्व बैंक
वित्तीय बाजार विनियमन विभाग
पहली मंज़िल मुंबई क्षेत्रीय कार्यालय,
शहीद भगत सिंह मार्ग,
मुंबई - 400001
या ईमेल द्वारा इस विषय पंक्ति के साथ : Feedback on Retail FX platform पर 1 जनवरी 2018 तक भेजें।
पृष्ठभूमि
4 अक्टूबर 2017 की चौथी द्वि-मासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य के साथ विकासात्मक और विनियामकीय नीतियों के वक्तव्य के पैरा 10 में, “खुदरा उपयोगकर्ता" (लेन-देन आकार के संदर्भ में परिभाषित किया जाना) के लिए मूल्य निर्धारण के परिणाम में सुधार के लिए एक यंत्ररचना प्रस्तावित की गई थी जिसके तहत ग्राहकों को अंतर बैंक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म तक पहुंच प्रदान करके सीधे बाजार में ग्राहक मूल्य निर्धारण निर्धारित किया जाता है,जहां ग्राहक और अधिकृत डीलर बैंक से प्राप्त बोली/ऑफर का गुमनाम रूप से और स्वचालित रूप से मिलान किया जा सकता है। तदनुसार, 'खुदरा प्रतिभागियों के लिए विदेशी मुद्रा व्यापार मंच' पर चर्चा पत्र तैयार किया गया और प्रतिक्रिया के लिए जारी किया गया है।


RBI releases Discussion Paper on ‘Foreign exchange trading platform for retail participants’
The Reserve Bank of India today released on its website a Discussion Paper on ‘Foreign exchange trading platform for retail participants’. The discussion paper proposes a scheme to encourage transparent and fair pricing in the retail forex market by developing a foreign exchange platform for retail participants along the lines of the FX-Clear platform of Clearing Corporation of India Limited (CCIL).
As envisaged in the discussion paper, retail customer would be provided access (through an internet based application) to an electronic trading platform where bid/offers from customers and AD banks can be matched anonymously and automatically. This is likely to provide transparency while enhancing competition leading to better pricing for all types of customers, without differentiating them on the basis of order size. Direct execution by the customer is likely to bring down the cost of transactions as there is no market risk to the customer’s bank apart from settling the inter-bank trade through the CCIL settlement system. Banks may charge their customers a fee towards processing expenses. Banks will be required to publicly declare such fees.
Comments on the Discussion Paper may be forwarded to:
The Chief General Manager, Reserve Bank of India
Financial Markets Regulation Department
1st Floor Mumbai Regional Office,
Shahid Bhagat Singh Marg,
Mumbai – 400001
Or by email with subject line: Feedback on Retail FX platform by January 1, 2018
Background
In Para 10 of the Statement on Developmental and Regulatory Policies accompanying the Fourth Bi-monthly Monetary Policy Statement dated October 4, 2017, a mechanism was proposed for improving the pricing outcome for the “retail user” (to be defined in terms of transaction size) under which client pricing is directly determined in the market by providing customers with access to an inter-bank electronic trading platform where bid/offers from clients and Authorised Dealer banks can be matched anonymously and automatically. Accordingly, the Discussion paper on ‘Foreign exchange trading platform for retail participants’ has been prepared and released for feedback.
(Source: rbi.org.in

No comments