जानें वो आंकड़े-सूचना-सरकारी फैसले और खबर, जो शेयर मार्केट पर डालते हैं असर

अगर आप शेयर मार्केट या बिजनेस खबरों पर नजर रखते हैं तो आपने एक बात गौर किया होगा। हर साल आम बजट के आस-पास शेयर मार्केट में हलचल बढ़ जाती है। बजट से अलग-अलग सेक्टरों की उम्मीदों-नाउम्मीदों के हिसाब से बाजार भी अपनी चाल चलता है।

उन दिनों अक्सर आपने देखा होगा कि जिन सेक्टरों को आम बजट से राहत की उम्मीद रहती है वो सेक्टर भी चलते हैं लेकिन जिन सेक्टरों के साथ ऐसी कोई संभावना नहीं रहती है, इन सेक्टर में नए पोजीशन लेने से निवेशक बचते दिखते हैं।

लेकिन, आपको बता दें कि सिर्फ आम बजट ही नहीं बल्कि कई ऐसे डाटा, सरकारी फैसले, सूचना, खबर होते हैं जिस पर आप नजर रखकर शेयर बाजार में किसी भी संभावित नुकसान को कम से कम कर सकते हैं और मुनाफा कमाने के लिए सटीक दांव चल सकते हैं।

चलिए, आपको बताते उन आंकड़ों, खबर और सूचनाओं के बारे में...
>5 साल पर: लोकसभा चुनाव, बड़े राज्यों के विधानसभा चुनाव
>सालाना:  आम बजट, रेलवे बजट, राज्यों का बजट, GDP नंबर,
दक्षिण-पश्चिम मॉनसून (जून-सितंबर)
>तिमाही: कंपनियों के नतीजे, GDP नंबर
>मासिक: WPI, CPI, IIP, Export-Import, Core Sector,
  PMI Manufacturing, PMI Service
>हर दिन: FPI खरीदी/बिक्री, FII/DII Inflow, FII/DII Outflow,
कंपनी संबंधी खबर, विदेशी बाजारों खासकर अमेरिका और चीन के
बाजारों से मिलने वाले संकेत, ग्लोबल कमोडिटीज मार्केट में हलचल,
सरकारी कारोबारी फैसले, डॉलर के मुकाबले रुपए में हलचल
FII: Foreign Institutional Investor: विदेशी संस्थागत निवेशक
FPI: Foreign Portfolio Investor: विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक
DII: Domestic Institutional Investor: घरेलू संस्थागत निवेशक
> इसके अलावा, दुनिया भर के बड़े केंद्रीय बैंकों मसलन, अमेरिका
के फेडरल रिजर्व, चीन के पीपुल्स बैंक ऑफ चाइन, जापान का बैंक
ऑफ जापान, यूरोपीय संघ का यूरोपीय सेंट्रल बैंक के अलावा भारत के
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा ब्याज दर, लिक्विडिटी के संबंध में लिया जाने
वाला फैसला
> जिन देशों के साथ भारत के काफी अधिक कारोबार है या फिर जिन
देशों का ग्लोबल मार्केट में दबदबा है, जैसे चीन, अमेरिका, जापान,
उन देशों की सरकारों द्वारा कारोबार के संबंध में लिया जाने वाला फैसला

> कहां से मिलेगी जानकारी: 
-हिन्दी/अंग्रेजी बिजनेस अखबार
-हिन्दी/अंग्रेजी बिजनेस न्यूज चैनल
-हिन्दी/अंग्रेजी प्रामाणिक बिजनेस वेबसाइट्स
-ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट
-संबंधित केंद्रीय बैंकों की वेबसाइट्स  
-सरकारी वेवसाइट्स
-स्टॉक एक्सचेंजों की वेवसाइट्स
-मार्केट रेगुलेटरों की वेवसाइट्स

इन स्रोतों से आप जानकारी अवश्य लीजिए, लेकिन जब किसी शेयर के बारे में अंतिम फैसला लेना हो, तो कोशिश कीजिए कि आप अपने हिसाब से फैसला लें, खुद की एनालिसिस पर भरोसा करें।
So...Always Beyourmoneymanager...


Plz Follow Me on: 
Twitter       Facebook    Google+   Linkedin   pinterest


शेयर बाजार पर खास लेख...
((शेयर बाजार: जब तक सीखेंगे नहीं, तबतक पैसे बनेंगे नहीं! 

शेयर बाजार में उतरने से पहले डमी रूप में रफ कॉपी पर शेयर खरीदता-बेचता रहा: प्रशांत कुमार बशिष्ठ, रीटेल इन्वेस्टर
"बस एक क्लिक और सीखें कॉमर्स की बेसिक्स, वो भी फ्री में और आसानी से"
((इन्वेस्टमेंट करते समय जब 'इमोशन' हावी हो जाए...
((आप 'Emotional' इन्वेस्टर हैं या 'Rational' !
((शेयर बाजार; पैसा लगाने से पहले जानकारी लेना जरूरी 
((कैसे करें शेयर बाजार में एंट्री 
((सामान खरीदने जैसा आसान है शेयर बाजार में पैसे लगाना
((शेयर बाय-सेल-होल्ड-स्टॉप लॉस से पहले....
((ये PE, RoCE रेश्यो क्या है 
((शेयर बाजार के निवेशकों के लिए कंपनियों के नतीजे के मायने -भाग-1
कंपनियों के नतीजे को सिर्फ आंकड़ा ना समझें निवेशक-भाग-1
((शेयर बाजार के निवेशकों के लिए कंपनियों के नतीजे के मायने -भाग-2
कंपनियों के नतीजे को सिर्फ आंकड़ा ना समझें निवेशक-भाग-2
((बाय/सेल/होल्ड/टार्गेट/स्टॉप लॉस क्या बला है...
((डिविडेंड/सस्पेंडेंड/डीलिस्ट कंपनी के बारे में जानकारी कहां मिलेगी
((IPO में कैसे निवेश करें 
((एक से अधिक डीमैट अकाउंट आप खोल सकते हैं  
((क्या करें अगर डीमैट अकाउंट होल्डर की मौत हो जाए
((SMS, ब्लॉग, वेबसाइट्स की शेयर टिप्स पर भरोसा ना करें: सेबी  
((खुद के पैसे, खर्च करें कैसे; जानें 50:30:20 फॉर्मूले से 


Plz Follow Me on: 






No comments